मेरी सुहागरात की सेक्स स्टोरी !! Meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

By | November 3, 2018

Meri Suhagraat ki kahani, Suhagraat sex story

हेल्लो दोस्तों मैं इस कहानी में आपको अपनी Suhagraat ki kahani सुनाने वाली हु। मेरी requst है आपसे आप इस कहानी को पूरा पढ़े और enjoy करे।
तो दोस्तों चलिए meri Suhagraat ki kahani start करती हूं।

● meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

मुझे सब लोग पिंकी वर्मा के नाम से जानते हैं मैं अभी मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में रह रही हूं मैं अब पूरी तरह से जवान हो चुकी और सेक्सी लड़की हूं मेरी शादी हो चुकी हूं दोस्तों शादी से पहले मैंने क्या-क्या सपने देखे थे कि मेरे सपनों का राजकुमार ऐसा होगा वैसा होगा पर सब उल्टा हो गया जब मैं शादी करके अपनी पति ओमप्रकाश के घर गई तो सब मेरे विपरीत हुआ meri Suhagraat पर पति ने मुझसे खूब प्यार किया मैं शादी के जोड़े में बिस्तर पर बैठी थी मेरे पति ओमप्रकाश आ गए और मुझे बाहों में लेकर किस करने लगे।

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

मैं बोली सुनिए जी- “अभी इतनी जल्दी क्या है घर वालों को सोने दिजिए, फिर मेरे से वो सब करना”

पति बोले- “इसमें इतना सर्म करने की क्या बात है। तुमसे शादी की है सारे समाज के सामने लाइसेंस लिया है आज मुझे मत रोको

ये बोल कर, मेरे पति मुझे बाहों में भर कर चुम्मा पर चुम्मा लेने लगे, शादी के वक्त मेरा जोश  बिल्कुल भरा हुआ था मैं 25 साल की भरी पूरी और जवान चंचल न्योबति थी धीरे-धीरे पतिदेव ने मुझे लहंगे में ही अपने पास लेटा दिया और ब्लाउज खोलने लगे। जब तक मैं उनको रोक पाती उनको मेरी हरी-भरी दूधिया छतिया दिख गई पति जी हाथी की तरह मदमस्त हो गए और उन्होंने मेरे ब्लाउज को उतार कर ही चैन लिया छाती के बड़े-बड़े तने सफ़ेद बूब्स देख कर वो ललचा गए, दोनों हाथों से मेरे दोनों बूब्स मसलने और दबाने लगे मुझे दर्द होने लगी और मई उह-उह-उह-उह करने लगी उसके बाद तो पति चालू हो गए मेरे तने और टाइट बूब्स को पकड़ कर जोर जोर से दबाने लगा और फिर पति ने मेरे मम्मो को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया मैं बिस्तर पर अंगराई लेने लगी काफी देर तक पति मेरे दोनों बूब्स मुंह में लेकर चूसते रहे।

इसी बीच मेरी चूत अपना मीठा रस छोड़ने लगी मैं तो पानी पानी हो गई पति जी ने खूब प्यार मुझे दिया, दोस्तों मेरी निपल बड़ी बड़ी और उठी हुई थी सफेद चूचियां के ऊपर काले काले बड़े निपल बड़े सूंदर दीखते थे।
पति जी ने खूब मेरी भरी जबानी का रस चूसा।
फिर धीरे-धीरे कर के मेरा लहंगा भी उतार दिया

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

फिर मैं बोली- सुनिये जी, क्या आज ही मुझे आप चोदेंगे

पति बोले- हैं इसमें हर्ज क्या है अब तुम मेरी बीवी हो

फिर मैं बोली-  मैंने मन्नत मागि थी कि जब मेरी शादी एक अच्छी युवक से हो जाएगी तो मैं सुहागरात को संबंध नहीं बनाऊंगी और अगले दिन ही संभोग करूंगी

पति बोले- ओह पिंकी यह सब बेकार की बातें हैं आज हमारी सुहागरात है और आज मुझे तो तेरी कुंवारी चूत चोदने ही है

उसके बाद पति जी ने मेरा लहंगा उतार दिया मेरी चड्डी उतार दी मेरे दोनों पैर खोल दिए दोस्तों मैने शादी के दिन ही सुबह में अपनी चूत की बाल अच्छे से बना लिए थे पति उत्सुकता से मेरी चूत का दर्शन करने लगे मैं पूरी तरह से कुंवारी थी उन्होंने उंगली से मेरी चूत खोल कर देखी गुलाबी सफेद झूली उनको बंद मिली ओमप्रकाश मेरे पति के चेहरे पर एक विशेष प्रकार की संतुष्टि और संतोष में देख रही थी उसके बाद वह जीभ लगाकर मेरे भोसड़े का रस लेने और और ऐसे चाटने लगे जैसे बिल्ली कोई राबड़ी चाटती है जीभ लगा कर वो मेरी चूत का रस पीने लगे। मेरी मुह से ओ-ओ-ओ-ओ-ओ कि आबजे आने लगी और मैं बोली धीरे चाटिए जी लगती है पर उनको कहा होस था आज वो पगला गये थे काफी देर तक मेरी चूत की दाने को तरह तरह से चबाते रहे और मुझे मीठा मीठा दर्द देते रहे

उसके बाद पति जी ने अपने सारे कपडे उत्तर दिए उनका लंड मुझे दिखा 6 इंच का लंबा और 2 इंच मोटा लंड था पति जी जल्दी जल्दी अपना लंड फेरने लगे

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

पति बोले – पिंकी आज इसे अच्छे से चूस दो
मैं बोली- नही मुझे या गंदा लगता है
पति बोले- पागल हो तुम दुनिया इसकी दिबानी है हर औरत को लंड चूसना पसंद है आओ चुसो

उसके बाद वो मजे से बिस्तर पर लेट गए। मुझे ये करना ही पड़ा मैं उनका लंड हाथ में ले के फेरने लगी जल्दी जल्दी फेरकर  खड़ा करने लगी और मुझे ऐसा लगने लगा कि मुझसे पहले वो बहुत सारी लड़कियां को चोदी है।

क्योंकि लाइट में उनके लंड का सुपाड़ा साफ-साफ चमक रहा था और उनके लंड टोपी उग्री हुई थी इसलीए हमे समझने में देर नही लगी की वो कुमारे मर्द नही है। उनका लंड को फेरते-फेरते और मुह में लेने से लंड बहुत टाइट और मोटा हो गया  और मेरे अंदर की सेक्सी वासना जग गई और मैं उस लंड को और अच्छी तरह चूसने लगी और

हाथ से फ़ेर भी रही थी उनकी तरफ देखा तो जनाब दोनों आंखें बंद किए जन्नत की सैर कर रहे थे मैं और जल्दी जल्दी चूसने लगी उनकी गोलिया अंतर्वासना से बिल्कुल लड्डू की तरह सख्त और कठोर हो गई मुझे भी रोमास पैदा हो गया मैंने उनके दोनों लड्डू यानी उसकी कसी- कसी ठोस अवस्था वाली गोलियों को हाथ से सहलाने लगी

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

पति जी बोले- चुसो और चुसो जानम मुझे अच्छा लग रहा है और जल्दी-जल्दी लंड पर मुँह लगाओ

मैं बोली –  जी चुस रही हूँ आज आपको पूरा मजा दूंगी

उसके बाद में जल्दी-जल्दी लंड को चूसने लगी और किसी रंडी की तरह चूसने लगी कुछ देर बाद उन्होंने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी गांड के नीचे एक मोटा तकिया लगा दिया अब मेरी कमल के संग मेरी छुट्टी हो गई पति जी ने 6 इंच का मोटा और तंदरुस्त लंड मेरी चूत पर रख दिया और जोर का झटका मारा, मेरी चूत किसी फुटबॉल  की तरह पंचर हो गई और मेरी सील टूट गई और पति जी के लंड का गुलाबी सुपाड़ा मेरी चूत के लाल रंग के खून से लाल हो गया

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

मैं बोली –  आराम से चोदने जी दर्द होता है

पर पति तो अपनी सेक्सी दुनिया में मस्त थे क्योंकि वो रुके ही नहीं और जल्दी-जल्दी चूत में लंड अंदर बाहर करने लगे मैं चुदने लगी थोड़ा दर्द और थोड़ा मजा मिल रहा था मैं अपने दोनों पैरों को उठा दिया और हाथों से पकड़ लिए, ताकि उनकी पूरी लंड मेरी चूत में जा सके और पति जी जल्दी-जल्दी चूत में झटके देते रहे मेरी मुह कुछ इस तरह की आबाजे आनी सुरू हो गई  मम्मी- मम्मी आ-आ-आ-आ-आ,…. ऊह-ऊह करती रही फिर कुछ देर बाद ऐसी ही मेरी चूत की चुड़वाई करने के बाद मेरी चूत में उनके लंड के साइज का रास्ता बन गया जिससे मेरी भी दर्द कम गई और उनको भी चोदने में मज़ा आने लगा

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

पति चुदाई में बड़े माहिर खिलाड़ी निकले और मैं समझ गई कि वो मेरे से पहले भी कई बार चुदाई का आनंद ले चुके हैं दोस्तों मेरे पति ने 2 घंटे तक मेरे भरे हुए जिस्म को चोद चोद कर अपना भी मजा लिया और मेरे को पसीना छुपा दिए और फिर वो सो गए और मैं अपनी चूत मै अच्छे से साफ करके मै सो गई

दोस्तों इस तरह से रोज होने लगा शुरू शुरू में पति जी ने मुझे खूब प्यार किया हर रोज मुझे प्यार करते थे और हर रोज मेरी चूत बजाते थे बड़ा आनंद देते थे कई बार मेरे साथ गुदामैथुन कांड में चुदाई भी करते थे जिसमें एक विशेष प्रकार का आनंद आता था इस तरह से 1 साल तक सब ठीक चला, पर उसके बाद

meri Suhagraat ki kahani , Suhagraat sex story

दोस्तों जैसे मेरी खुशियों पर किसी की बुरी नजर लग गई मेरे पति ओमप्रकाश को उनके दोस्तों में शराब पीना सिखा दिया पहले तो दोस्तों ने अपने पैसे से उनको पिलाई फिर पति को लत लग गई, रोज रात ऑफिस से सीधे शराब के ठेके पर चले जाते और चढ़ा लेते कई बार तो शराब की बोतल लगाकर झूमते हुए घर आते थे धीरे-धीरे मेरे साथ ससुर देवर और समस्त परिवार को पति के पीने की जानकारी हो गई

ससुर और बहू की desi sex kahani

अब तो सब उल्टा हो गया रोज रात में पी कर आते और फिर मुझे कोई ना कोई बात पर पिट देते मेरी खूबसूरती का भी उन पर कोई असर नहीं होता था मैं उनको कोई बहाना नहीं देती पर वो जब चढ़ा लेते तो कोई ना कोई मुद्दा ढूंढ लेते और मुझे मारने लग जाते कभी हाथ से मारते तो कभी डंडे से अब तो मेरे बुरे दिन आ गए थे जब मैं सुबह नहाने जाती तो मेरे सूंदर जिस्म पर चोट के निशान रहते पर क्या कर सकती थी भारतीय औरत के लिए पति ही देवता होता है अब तो ओमप्रकाश रोज ही पीकर आते और रोज मेरी पिटाई कर देते एक दिन शाम के वक्त मोहल्ले के लोग के सामने ही मुझे पीटने लगे

ऐसे में पड़ोस का लड़का श्याम आ गया और उसने मेरे पति को मुझसे दूर कर दिया वह मेरे पति का दोस्त था अब अक्सर श्याम मेरे घर आ जाता था वो मुझ से मेरा हाल पूछा तो मैं रो देती और उसे अपनी बदन के जख्म दिखा देती, श्याम मुझे भाभी कह के बुलाता था

श्याम बोला – भाभी कहाँ कहाँ चोट लगी है मुझे दिखो मै मल्हम लगा देता हूं मैं रो-रो उससे अपना दुःख साझा करने लगी अब श्याम हर रोज मेरे घर आ जाता और जख्म पर दबा से मालिश कर देता

दोस्तों  ऐसे करते करते मुझे उससे प्यार हो गया दूसरे दिन घर पर कोई नहीं था मेरे पति ओमप्रकाश तो रात में आते हैं मैंने श्याम को घर मैं बुला लिया और उसे लेकर अपनी बेडरूम में चली गई श्याम मुझे देखे जा रहा था वह मेरे पैरों पर चोट पर मरहम लगाने लगा धीरे-धीरे में पिछड़ गई और उसका हाथ में पकड़ लिया और फिर उसे सीने से लगा लिया और फिर

मैं बोली- श्याम मुझे इस घर में सब मारते पिटते है कोई प्यार नही करता सब तुम हे एक हो जो मेरी मददत करते हो, ये बोल कर मैं उसके माथे पर किश देने लगी वो
22 साल का नया लड़का था मेरे खूबसूरत जिस्म को देखकर वह भी मुझसे इश्क कर बैठा और उसके बाद हम दोनों एक दूसरे से दूर हुए मुझे श्याम से किस के सीने में छुपा लिया और अपनी गर्लफ्रेंड की तरह से प्यार करने लगा उसने मुझे हर जगह मेरे बदन के 1-1 कन पर किस करके अपना प्यार दिखा दिया

दोस्तों मै भी अपने दुस्ट पति के अत्याचार से तंग आ गई थी एक श्याम ही था जो मेरा ख्याल रखता था वह बिल्कुल मेरे करीब आ गया और अंत में उसने मुझे बाहों में पकड़कर मेरे होठों पर अपनी हॉट रख दिया तो मैं इनकार नहीं कर सकी मैं भी किश करने लगी खूब चुम्मा चाटी हुई श्याम मेरे जिस्म पर हाथ लगाने लगा मै बलाउज में थी श्याम मेरी गोरी चिकनी पीठ को बार-बार लाहलाये जा रहा था अंत में उसने मुझे पूरी तरह से नंगा कर दिया

श्याम बोला भाभी ब्रा और पैंटी भी उतार दो उसके बाद मैं भी

चोदने के मुड़ में आ गई जैसे मैने अपनी ब्रा उतारी मेरे
36 इंच के सफ़ेद बूब्स किसी बछड़े की तरह आजाद हो गया श्याम मेरे योबन को बर्दाश्त ना कर सका और का मांस होकर मुझ पर आसक्त हो गया मेरे दोनों बूब्स को हाथ से मसलने लगा और मुँह में ले कर ऐसे चूसने लगा जैसे मै ओमप्रकाश की नही उसी की बीवी हु मेरे जानम श्याम से आधे घंटे तक मस्त-मस्त मेरी दोनों चूची को मुह में ले कर चूसा और फिर मुझे घोड़ी बना दिया मैं भी आज उसका प्यार पाने को मर रही थी

श्याम से अपना 5 इंच मजबूर लंड मेरी फूली चूत में ताकत दे कर घुसा दिया और फिर जल्दी जल्दी मुझे चोदने लगा मै जबानी के मजे लेकर आ आह आह आह आहा केरने लगी श्याम भी बलकुल जबान मर्द था वो जोर – जोर के झटके मेरी चूत में मरने लगा जिससे मुझे बहुत आनन्द मिला मैं मजे से चुदवा रही थी कुछ देर बाद उसकी रफ़्तार बढ़ता गया और चट-चट कर आबाजे होने लगी और उसकी लंड किसी मसीन की तरह मेरी चूत में फता-फट निकलता और गुस्ता था फिर कुछ देर बाद  मेरी चूत में ही झड़ गया और फिर वो अपने कपडे पहन कर चला गया और दोस्तों तब से ये सुशीला आज भी कायम है मैं जब भी मौका पाती हूं अपनी प्रेमी श्याम से चुदवा लेती हूं तो दोस्तों meri Suhagraat ki kahani और श्याम के साथ की कहानी आपको कैसी लगी हमे जरूर बताये।

Meri Suhagraat ki kahani पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *