पडोसी भाभी के साथ जबरदस्ती hot kahani

By | February 20, 2019

!! पडोसी भाभी के साथ जबरदस्ती hot kahani !!

Hot kahani

हेलो दोस्तों 

तो कैसे हैं आप लोग उम्मीद करता हूं बड़े ही खुश होंगे  और पडोसी भाभी की चुदाई कर रहे होंगे। और जो लोग भाभी की चुदाई नहीं कर पा रहे तो आगे दी हुई hot kahani को पढ़ने के बाद आपको idea लग जाएगा कि आखिर भाभी की चुदाई कैसे की जाती है तो इस कहानी को आप लोग जरूर से जरूर पढ़ें। यह मेरा रियल कहानी हैं।

दोस्तों मेरा नाम आयुष है।  मैं engineering की पढ़ाई करता हूं मैं  दिल्ली में रहता हूं मेरा घर झारखंड पड़ता है वैसे तो मैं देखने में  थोड़ा गोरा हूं पर बहुत ही लाजवंती टाइप का इंसान हूं मुझे किसी के सामने खड़ा होने में लाज लगता है पर मुझे सेक्स बहुत पसंद है मेरे लंड का साइज 6 इंच है मैं अभी तक किसी को सेक्स नहीं किया  था। अभी तक मैं सिर्फ एक भाभी को जबरदस्ती सेक्स किया हूं ये कहानी भाभी पर हैं।

अब यहा से मेरी कहानी start होती है  मैं दिल्ली में एक  छोटा सा रूम लेकर अकेले रहता हूं मेरे रुम के सामने भी एक रूम था जिसमें एक लेडीज और एक जेंट्स रहते थे वे  दोनों पति पत्नी थे मैं उन लोगों को नहीं जानता था कुछ दिनों बाद गर्मी का टाइम था एक दिन बहुत गर्मी थी और लाइट भी नहीं था तो रूम में रहने का मन नहीं कर रहा था तो सोचे क्यों न आज ऊपर छत पर जाया जाए तो ऊपर जाकर हम बैठ के म्यूजिक सुन रहे थे कुछ देर बाद मेरे रुम के सामने जो लेडीस रहती थी वो भी छत पर आई वो घर में बैठते-बैठते बोर हो जाती थी क्योंकि उनके हस्बैंड नौकरी करते थे तो सुबह 10बजे से रात 8 तक नोकरी पर ही वो  रूम में बैठे-बैठे बोर हो जाती थी इसलिए थोड़ा बहुत दिल बहलाने के लिए वो बातें करने लगी और उस दिन छत पर बातें करते करते उनको भाभी बना लिए

उनको भी बात करने में मेरे साथ  मजा आ रहा था  और उनकी टाइमपास भी हो रही थी मैं जब उनके साथ बातें करता था तो मेरा लंड खड़ा हो जाता था
उनकी साइज की बात करें तो ऊपर का साइज 32 और बीच का साइज 34 और नीचे का साइज 36 था और उनका गोरा सा बदन और उनकी बूब्स की साइज़ देख कर  मेरे लंड से पानी निकलने लगता फिर भी मैं किसी तरह अपने लंड को रोक कर रखता , हम दोनों एक दूसरे को बहुत ही करीबी से जानने लगे थे वो मेरे रूम में बार-बार आती रहती थी हम भी उनके साथ भाभी की तरह पेश आते थे। हम दोनों में मजाके चलती रहती थी कुछ भी बोल दे देते पर पर वो बुरा नहीं मानती थी , किसी दिन तो ऐसा भी होता था कि वही खाना मेरा बना देती थी। और मैं भी उनकी बहुत मदद करता था बाजार से कुछ सामान लाना है तो मुझे ही भेजती थी और मैं चला जाता था

फिर एक दिन भाभी कुछ सामान लाने के लिए हमें दुकान भेजी थी दुकान पास में ही था तो इसलिए मैं 2 मिनट में ही आ गये और भाभी असनान करने बाथरूम चली गई थी मैं समान लेकर आया तो भाभी बाथरूम में थी जब भाभी के रूम में गया तो भाभी भाभी बोलते हुए तो भाभी की बाथरूम से आवाज आई रुकिए  आती हूं मैं स्नान कर रही हूं थोड़ा लेट होगा तो मैं बोला ठीक है कोई बात नहीं मैं वेट करता हूं फिर मुझे रहा नहीं गया और बाथरूम के ऊपर एक जाली टाइप का बना हुआ वेंटिंनेसन था और उसके नीचे एक टेबल था तो  मेरे दिमाग में एक गंदा idea आया ? अगर भाभी को नंगा देखना है तो ये सही मौका होगा उस टेबल पर चढ़ के वेंटिंनेसन से भाभी को नंगा देख सकते है और उनकी बूब्स भी देख सकते है तो मैं उस टेबल पर चहर के वेंटिलेशन की मदद से बाथरूम में झांकने लगा तो भाभी बाथरूम में ब्रा और साया में थी, मेरी नजर जब उनकी ब्रा पर पड़ी तो मैं देखता ही रह गया , क्योंकि उनकी ब्रा जो थी वो बहुत बड़ा और टाइट था जिसके कारण मेरा लंड खड़ा हो गया , और फिर भाभी एक हाथ अपनी चूत के अंदर डाल डाली हुई थी और एक हाथ से पानी दे रही थी ऐसा लग रहा था कि वो अपनी चूत को साफ कर रही थी

असनान करने के बाद जब वो कपडे बदलने लगी तो भाभी अपनी ब्रा को उतार दी थी और वो अपनी गोरी गोरी बूब्स को अपने दोनों हाथों से दोनों बूब्स को पकड़कर कर धीरे-धीरे दबा रही थी ऐसा लग रहा था कि उनको ऐसा करने में अच्छा लग रहा है और मेरा लंड उस टाइम इतना ज्यादा खड़ा हो गया और ऐसा लग रहा था कि जब तक इसको भाभी की चूत नहीं मिलेगी तब तक यह सोने वाला नहीं तो इसलिए मैं उनको देखते हुए मैं मुठ मारने लगा और मैं टेबल पर ही मुठ मारना चालू कर दिया वह धीरे-धीरे अपने बूब्स को सहला  रही थी इसी वजह से उनका बूब्स इतना बड़ा हो गया था फिर भाभी कपड़े बदल कर बाहर  आने लगी और मैं भी टेबल पर ही मुट्ठ मार दिया था और मैं भी ठंडा गया था तो मैं झट से टेबल से उतर कर कुर्सी पर जाकर बैठ गया और फिर भाभी बाथरूम से निकले और बोली- इतना देर तक वेट ही कर रहे थे
हम- ऐसे ही पेपर पढ़ रहे थे आप जब तक आते नहीं तो  मैं कैसे चला जाता और सामान ,पैसा वापस करके  अपने रूम चला गया

मेरे आंख के सामने हमेशा भाभी की नंगी फिगर और उनकी बूब्स किसी फिगर आते रहता और मेरे दिमाग में भी वही सब चलते रहता था इस वजह से मेरा पढ़ाई नहीं हो पा रहा था मेरा हमेशा धियान उन्हीं के ऊपर रहता था मेरा पढ़ाई में थोड़ा सा भी ध्यान नहीं जाता था हमेशा मैं भाभी की आवाज सुनने के लिए बेताब रहता था क्या कहीं वो हमें पुकारे और मुझे रहा नहीं गया तो मैं दूसरे दिन उनके रूम ऐसे ही बिना पुकारे चला गया भाभी खाना बना रही थी वह किचन में थी सामने से किचन दिखता  था तो हम भाभी भाभी बोलते हुए उनकी रूम पहुच गये तो किचन से आवाज आती है भाभी की बैठिए Ayush जी मैं आती हूं किचन में रोटी पका रही हूं तो मैं कुर्सी पर बैठ गया और उनकी गांड देखने लगा रोटी बनाते समय उनकी गांड थोड़ी हिल रही थी और पीछे से देखने पर बहुत ही सेक्सी लग रही थी

उनकी गांड को देखते-देखते मुझे रहा नहीं गया और मैं धीरे-धीरे से जाकर उनकी गांड को पकड़कर जोर से दबा दिया भाभी एकबैग मेरी तरफ घूम गई और बोलने लगी यह गलत बात है आयुष जी आपको मैं अच्छा मानता था पर आप भी गंदे निकले तो मैं बोला sorry भाभी मुझसे रहा नहीं गया आपकी गांड को देख कर  और लगता है  भैया आपको चोदते नहीं है मैं आपकी हेल्प  करने के लिए तैयार हूं जब भी आप चाहिए मुझसे चुदवा सकते हैं मैं आपको पूरी तरह संतुष्ट कर दूंगा फिर भाभी मेरी तरह गुस्सा हो के बोलने लगी आप मेरे रूम से निकल जाइए मैं आप को सीधा समझती थी और आप तो ऐसी-ऐसी बाते करने लगे क्या अब आपके साथ रहने में भी हम को डर लगता है जाइए मेरे रूम से और मैं आपको कभी नहीं  कोई भी सामान लाने के लिए नहीं बोलूंगी आप मेरे रूम से निकल जाए फिर मैं sorry भाभी मुझसे गलती हो गई माफ कर दीजिएगा  बोलते हुए रूम से निकल गये।

फिर उस दिन से भाभी मुझसे बोलना ही बंद कर दी पर भैया मुझसे बोलते थे क्योंकि उनको यह सब बारे में पता नहीं था और भाभी बताई भी नहीं थी तो एक दिन हम और भैया बाते कर रहे थे तो भैया बोले  देखो ना हमारी ड्यूटी अब से नाइट कर दी गई है और मैं दिन भर घर में रहूंगा और रात में ड्यूटी पर तो अब तुम ही को यहां पर देखना पड़ेगा भाभी को , तो मैं बोला कोई बात नहीं भैया मैं हूं ना कोई दिक्कत नहीं है आप ड्यूटी कीजिए।

फिर एक दिन करीब 10:00 रहा था और भैया ड्यूटी पर चले गए थे और उनके घर में लाइट नहीं आ रहा था कुछ खराबी हो गई थी तो वो भैया को फोन करके बोले देखिए ना लाइट नहीं जल रहा मिस्त्री भेज दीजिए भैया बोले आयुष को बुला लो वो ठीक कर देगा तो भाभी बोली मैं नहीं बोलूंगी  आप ही फोन करके उसको बोल दीजिए आ जाने तो फिर भैया मुझे कॉल करके बोले जाकर लाइट ठीक कर दो फिर मैं उनकी गेट पर जाकर अलार्म बजाए भाभी गेट खोल के अपने रुम जाने लगी और हमे  कुछ बोली भी नहीं तो मैं ही बोला क्या कहां पर लाइट खराब हुआ  तो फिर वह बोली मैन लाइन खराब हुआ और मैं ठीक करने के लिए चला गया  मेरे पास कुछ लाइट भी नहीं था भाभी को बोले लाइट लेकर आइए तो भाभी लाइट लेकर आई और हम को दिखाने लगी फिर जब लाइट  ठीक हो गया तो मैं अपने रूम  जाने लगा तो वो  बोली खाना खा के जाइएगा, मई – नही  ठीक है मैं जा कर खाना बनाकर खा लूंगा तो भाभी बोलती है 10:00 बजे रात में खाना बनाकर खाइएगा नही यही पर खा लिजिए तो मैं बोला ठीक है निकालिए तो मैं  खाना खाकर जब आने आने लगा तो  भाभी जी गेट लगाने के लिए मेरे पीछे-पीछे आ रही थी

पर मेरे दिमाग से तो उनकी फिगर जा ही नही रही थी तो मैं सोचा आज बहुत अच्छा मौका है इस मौके को जाने मत दो और आज जबरदस्ती ही कर लो और मई दरवाजे के पास जाकर दरवाजे को झट से लगा दिया और पिछे घुम के भाभी को जोर से दोनों हाथों से उनका दोनों हाथ पकड़ कर बेडरूम की तरफ ले कर जाने लगा ,”भाभी बोलने लगी छोड़ो हमको नही तो मैं चिल्ला जाऊँगी और वो चिलाने लगी मैं झट से उनकी साड़ी की पल्लू से उनका मुह बाँध दिया और उनको धकेलते हुए  बेडरूम की ओर ले गया उनको बेड पर सुलाया तो मेरा बाल पकड़ के खींचने लगी और जब मैं अपने बाल को छुड़ाने की कोशिश करता तो वो पैर चलाना स्टार्ट कर देती तो फिर मैं किसी तरह उनकी साड़ी को उतारकर हाथ और पैर को पलंग से बांध दिया अब वह थोड़ा सा भी  झटपट नहीं कर पा रही थी

अब मैं उनके साथ जो मर्जी वह कर सकता था उनकी पैर और हाथ दोनों बांधी हुई थी भाभी सिर्फ बुलौज और साया में थी , उनके मुंह पे साड़ी लपेटी हुई थी इस वजह से उनको लंबी सांसे लेनी पड़ रही थी और इस कारण उनकी बूब्स अप डाउन कर रही थी  वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी फिर मैं उनकी ब्लाउज के ऊपर से ही  उनकी बूब्स को  अपने हाथों से दबाने लगा वो अपने मुंह से नाना की इशारा  करने लगी मैं और जोर-जोर से अपने दोनों हाथों से दोनों बूब्स को पकड़कर पूरी जोर से दबने लगा  कुछ देर तक वैसे ही दबते रहा फिर कुछ देर बाद उनकी ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया और उनकी चूची की नोप को अपने  मुंह में ले कर चूसने और काटने लगा फिर कुछ देर तक चोवने के बाद उनकी साया को उठाकर उनकी पैंटी को उतार दिए , उनकी चूत वाइट कलर का और थोड़ा-थोड़ा बाल भी था और फुल्ला हुआ था , बिल्कुल किसी 12 साल की बच्ची का जैसा रहता है वैसा ही था मैं उनकी चूत चाटने लगा नमकीन की तरह सुआद आ रहा था  वो सिसकियां लेने लगी और अपनी चूत को उठाने बैठाने लगी बहुत ही कमाल का चूत था मुझे बहुत मज़ा आ रहा था उनकी चूत चाटने में मई तो 15 मिनट तक उनकी चूत को चाटता ही रह  गया, चूत से पानी भी निकलने लगी थी वो पीने में तो और मज़ा आ रहा था किसी मलाई से कम नहीं था

फिर चूत चाटने के कुछ देर बाद मैं अपना लंड भाभी को चूसने बोल रहा था पर भाभी नहीं बोल रही थी फिर मैं जबर्दस्ती मुंह से उनकी साड़ी हटाकर मैं अपना लंड उनकी मुंह में पुर डाल दिया वो ओ ओ करने लगी और लंड को अपनी दांतों से काटने लगी मुझे दर्द होने लगा मैं सोचा अब क्या होगा ये अगर काट दी तो , भाभी मेरा लंड छोड़ ही नहीं रही थी अपने दांतो से दबा कर रखी थी फिर मैं दोनों हाथों से उनकी मुंह को को फेहला के  अपनी लंड को निकाला  मुझे गुस्सा आ गया था और मैं उनकी  मुंह को पकड़कर दांत को फैलाकर  अपने लंड को उनकी मुंह में पूरा जोर से डालने लगा उनकी कंठ तक पंहुच जाता था वो छटपटाने लगती थी और ओ ओ ओ ओ करने लगती थी

फिर मैं  उनकी मुंह से लंड निकाल कर उनकी चूत में घुसाने के लिए चला आया जब मई लंड को उनकी चूत में डालने लगा तो वो जोर से चिल्लाने लगी , और उनकी चूत पूरा टाइट थी ऐसा लग रहा था क्या उनके हस्बैंड उनको कभी चोदते ही नहीं थे मैं अपना पूरा बल लगाकर उनकी उनकी चूत को चोदने लगा उनकी मुंह से आवाज निकलने लगी थी : ऊह… आ …..आई ….आ …उह… या….. करीब 1घंटे तब चोदने के बाद मेरा वाइट क्रीम पानी वाला निकल गया और अब भाभी की चूत भी टाइट से पूरा मुलायम हो गयी थी और थोड़ा फैल भी  गया था और फिर मैं अपना लंड उनकी चूत से निकाला और उनका जो हाथ पर बना हुआ क्या हुआ क्या बना हुआ क्या वह भी खोल दिया

फिर भाभी उठकर अपना कपड़ा पहनी और बोली बोलने लगी ” आप मेरे साथ जबरदस्ती कर के अच्छा नही किये मई अपने मन से बाद में खुद करने दे देती ” पर कोई बात नही आपसे चुदवाने में बड़ा मजा आया , और उस दिन से मई daily रात में भाभी को चोदता हूँ ,और करीब 2 साल तक delhi में रहे 2 साल तक उनको चोदते रह गया और अभी उनको एक बेटा भी है वो बच्चा मेरा ही है उसके बाद मेरा पढ़ाई complite हो गया और हम अब अपनी घर झारखण्ड आ गये ।

अभी भी हमे call कर के बुलाती और बोलती है आपके बिना मन नही लगता है मेरे husband मुझे सन्तुष्ट नही कर पाते है , मुझे आफि के लंड से सुंतुस्ती मिलेगी plllz आप आ जाईये ना ।
तो मै इधर ही कुछ दिन पहले delhi में मेरा exam था तो गया था तो भाभी मुझसे रात भर में 4 बार चुदवाई और मई अपना बेटे को भी देखा बहुत हे क्यूट है ।
तो दोस्तों आप लोग को मेरी hot kahani कैसी लगी हम जरूर कॉमेंट कर के बताये

Note – ऐसी ही sex कहानी पड़ने के लिया हमारे facebook page को जरूर like कर…।

             …..(Thank you)…….

आप ये कहानी xxkahani.com पर पड़ रहा थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *