ससुर और बहू की desi sex kahani

By | February 20, 2019

हाय दोस्तों ससुर और बहू की desi sex kahani मै आपका स्वागत है। मेरा नाम रीता है और मेरी उम्र करीब 32 साल हैं। वैसे तो मै एक मिडिल क्लास फैमिली में रहती हूं आज मैं आप सबको मेरे लाइफ की एक सच्ची घटना बता रही हूं। जो desi sex kahani से मिलती-जुलती है।

Sasur and bahu ki desi sex kahani

मेरे घर में मेरे पति और मैं और मेरे दो लड़के और मेरे ससुर रहते हैं पर अभी मैं बात आपको बता रही हूं यह बात तब की है जब मेरा बड़ा बेटा बस एक ही साल का था और उन दिनों मेरे पति की ड्यूटी नाइट में थी और वह रात को करीब 8:00 बजे काम पर जाते और सुबह करीब 6:00 बजे तक घर वापस लौट आते रात को मैं मेरे ससुर और मेरे 1 साल का बच्चा बस हम तीनों ही घर में रहते थे मेरी सास तो मेरी शादी से पहले ही गुजर गई थी

जिस वक्त की यह बात है उन दिनों मेरी उम्र करीब 24 साल की थी और मेरे ससुर जी की तो 51 साल की वैसे एक बात जरूर है। मेरे ससुर जी की उम्र भले ही 51साल के है  पर वह 40-45 के ही लगते थे मेरे पति कि ड्यूटी नाइट होने के कारण हम दोनों में ज्यादा सेक्स नहीं हो पाता था  और कभी कबार तो यूं ही महीने में अगर एकाध बार मौका मिलता तो ही हम सेक्स कर पाते थे क्योंकि दिन भर तो पिताजी घर पर रहते थे।

और रात को मेरे पति घर पर नहीं रहते थे और सबसे बड़ी बात हमारा घर 1 बीएच के का फ्लैट है इसलिए हमें कभी मौका भी नहीं मिलता था इसकी वजह से मेरी प्यास तो दे दिन बढ़ती जाती थी और मुझे रात भर नींद नहीं आती थी एक रात मुझे प्यास लगी तो मैं उठी और जब मैं पानी पीने के लिए किचन में गई और पानी पीने के बाद वापस आ रही थी तो मुझे बाथरूम से कुछ आवाजें आए तो मैं वहां क्या है यह देखने के लिए बाथरूम कि इधर गई। हमारा  बाथरूम थोड़ा पुराना था इसलिए उसका कुछ हिस्सा गिरा हुआ था मैंने उस गिरे हुए हिस्से से अंदर जरा नजर डाली तो मैंने देखा कि मेरे ससुर जी अंडर आधे नंगे थे और वो अपना लंड हाथ में लेकर हिला रहे थे मैं उनका लंड देखकर चौक गई उनका लंड तो 8 इंच लंबा था उसे जोर से हिला रहे थे और फिर थोड़ी देर में उन्होंने दीवार पर अपना पूरा पानी छोड़ दिया और अपने कपड़े पहनने लगे तभी मैं जल्दी से वापस आ गई वहां से और जाकर बिस्तर में सो गई पर मुझे सारी रात नींद कहां आने वाली थी मैं तो बस अपने ससुर जी के बारे में ही सोचती रही सुबह होते ही मैं उठी और अपना काम करने लगी लेकिन मेरा मन काम में कहां लगने वाला था मुझे तो सिर्फ कल रात का वही बातें याद आ रही थी मैं दिन भर ससुर जी के बारे में सोचती रही शाम को जब मेरे पति काम पर चले गए तो मैंने मन ही मन एक प्लान बनाया और मेरे ससुर जी को पटाने का इरादा कर लिया मेरा बेटा तो 1 साल का था वह मेरा दूध पीता था मेरे सब टीवी देख रहे थे मैं उन्हीं के सामने आकर बैठ के और टीवी देखने में लग गई फिर मैंने देखा कि ससुर जी तो टीवी देखने में बीजी है तो मैं  उन्हीं के सामने मेरे बच्चे को अपना दूध पिलाने लगी और वही दूध पिलाने के लिए मैंने अपना राइट साइड वाला चूची ब्लाउज से अंदर निकाल लिया था और फिर उसे से ही पिलाते-पिलाते, मैं टीवी देखने लगी मेरे ससुर जी अचानक से मेरी तरफ देखने लगे और फिर टीवी देखने लग गए मैं उनके सामने कभी भी ऐसे नहीं बैठी थी इससे वो मुझे देखने लगे पर मैंने तो जानबूझकर उन पर ध्यान नहीं दिया।

Sasur and bahu ki desi sex kahani

फिर जैसे मेरा बेटा सो गया था पर मैंने जानबूझकर अपनी चूची ऐसी की ऐसी छोर दी मतलब खुली छोड़ दी और
टीवी देखने लगी मेरे ससुर बिच-बिच में मेरी ओर देखते और फिर से टीवी देखने लगते मुझे पता चल गया था कि उनकी नजर मेरी चूची पर है। और फिर टी वी देखना छोड़ कर मेरी चूची को देखने लग गए। मैंने तब उनसे पूछा पिता जी आप यह बार-बार मेरी और क्यों देख रहे हैं कुछ चाहिए क्या, मेरे पूछने पर वो डर गए और बोले कुछ नहीं बेटा बस यूं ही देख रहा था तब मैंने कुछ नहीं कहा और फिर मैं उनके पास जाकर उनका हाथ अपने एक चूची पर रख कर कहा कि पिताजी मुझे मालूम है कि आप मेरी चूची को देख रहे थे अगर आपको मेरी चूची इतनी अच्छी लगी तो मुझेसे कह दिया होता मैं आपके लिए कभी ना नहीं कहती यह सुनकर वह मेरी चूची पर हाथ फिराते हुए बोले मैं भी यही चाहता था पर मेरी हिम्मत ही नही हो रही थी तुमसे कहने की इसलिए मैं तुम्हें हमेशा चुपके से देखता था और तुम्हें सपनों में ही चोदता था

यह कहते हुए उन्होंने मुझे जमीन पर लेटा कर मेरे ब्लाउज के बटन को खोलने लगे और फिर उन्होंने मेरा ब्लाउज पूरा निकाला और मेरी चूचियों को दबाने लगे वो कहने लगे तुम्हारा शरीर तो बहुत ही कोमल मादक है तुम्हें चोदने में बड़ा मजा आएगा

sasur or bahu ke desi sex kahani

मैंने बहुत दिन के बाद किसी औरत को मेरी बाहों में पाया है तुम्हारी सास के मरने के बाद में तो मैं बहुत अकेला हो गया था और मेरा शरीर यह तो सेक्स के लिए बहुत ही पियासा हो गया था।

इसीलिए मैं खुद ही अपने हाथों से अपना पानी गिरा रहा था पर अच्छा हुआ तो मैंने नहीं तो मुझे ऐसे ही मारना पड़ता आज अपनी परसों की तमन्ना पूरी करूंगा आज तो मैं अभी तक किसी ने ऐसा नहीं दिया होगा इतना सुख दूंगा इतना कहकर वह मेरी साड़ी में हटाने लगे मेरी हालत तो बहुत खराब होती जा रही थी

sasur or bahu ke desi sex kahani

मैं पूरी तरह से सेक्स में डूब गई थी मुझे तो भले बुरे की कोई समझ ही नहीं, पता जी ने मेरी साड़ी निकाल दी और मेरी पेटीकोट निकाल कर मेरी जागो को सहलाने लगे मैं और भी जादा पागल होती जा रही थी और साथ ही साथ उनके होठों पर होठ रख कर मैं उन्हें चूमने लगी, उन्होंने मेरे सारे कपड़े निकाल दिये और फिर वो खुद के कपड़े निकालने लगे उनका शरीर तो अभी तक पूरा जवान था वह पूरी एक जवान आदमी की तरह लग रहे थे उन्होंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और पूरे नंगे हो गए उनका वह 8 इंच का लंबा लंड मेरे सामने तो बिल्कुल सॉफ के जैसा फन निकाल कर मेरे सामने नाच रहा था

sasur or bhue ke desi sex kahani

उन्होंने मेरे हाथ में वे अपना लंड दिये और “चूसने के लिए कहा” मैं उस लंड को बिना वक्त गमाये चूसने लगी लंड मेरे मुंह में पूरी तरह नहीं जा रहा था मैं उसे आधा ही अपने मुंह में ले पा रही थी उसकी चुदाई इतनी ज्यादा थी कि मेरा मुंह बहुत खुल गया था और मेरा मुँह दुख रहा था

sasur or bahu ke desi sex kahani

मैंने लंड को मुंह से निकाला और उसे हाथ से हिलाने लगी तब पिताजी ने मेरी चूचिया पकड़ी और उसे अपने मुंह में डालकर चूसने लगे बिल्कुल मानों कोई छोटे बच्चे की तरह वो मेरा दूध पी रहे थे और फिर एक चूची से वो  मेरा दूध पी रहे और एक हाथ मेरी चूत में डाल कर उसमे उंगली डाल के अंदर बाहर करने लगे मेरा पूरा का पूरा दूध पीने लग गए थे मेरे दोनों चूची पूरी खाली करने के बाद वो मेरी टांगें के बीच आये मेरी टांगो को ऊपर करके उन्होंने मेरी चूत पर अपना लंड रखा और मुझे सावधान होने को कहा और एक जोर का ढक्का दिया और फिर उनका पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में गया और मेरी मुह से जोर क़ी चीख निकल गई  “आ..आ..आ…आ..आ..आ..आ..”

sasur or bahu ke desi sex kahani

उन्होंने मेरे दोनों हाथ पकड़े और उसे ज़ोर से कसकर पकड़ा और जोर-जोर से अपने लंड को आगे पीछे करने लगे मेरी चूत में बहुत दर्द होने लगी मेरी आंखों से आंसू आने लगे पर उन्हे तो जैसे मेरी कोई चिंता ही नहीं ऐसे ही चोद रहे थे वो मुझे और मेरे मुंह से सिर्फ सिसकिया निकल रही थी, इतनी सिसकिया निकलते निकलते मैं भी उनका साथ देने लगी थी मेरी चूत से पानी निकल गया था

इसलिए जब वो अपने लंड अंदर बाहर करते तो पिच-पिच करके आवाज आ रही थी वैसे तो मेरी चूत बहुत दर्द कर रही थी और फिर वो मुझे चोदते हुए कभी मेरी जांघों पर थप्पड़ मारते तो कभी मेरे पेट पर तो कभी मेरे गाल पर ही मेरा सारा शरीर लाल हो गया था मुझे बहुत दर्द हो रहा था जैसे मुझे कोई मर्द नहीं मानो कोई खूंखार जानवर चोद रहा हो, बिलकुल ऐसा ही लग रहा था। वो मेरे पूरे शरीर को मसल रहे थे करीब आधा घंटा होने के बाद मेरे चूत में ही अपना पानी छोड़ कर मेरे ऊपर सो गए,  वो पूरी तरह  पसीने से लखपत थे

sasur or bahu ke desi sex kahani

उनका पसीना मेरे शरीर को लग रहा था वो बहुत ही थक चुके थे लेकिन मैं गलत थी 15 मिनट के बाद वो फिर से उठे और फिर मुझे फिर से चोदने लगे उस रात उन्होंने मुझे जी भर कर चोदा कुछ दिन हमारा खेल ऐसे ही चलता रहा एक -दो साल ऐसे ही चुदाई करते रहे फिर बाद में मुझे उनसे एक लड़का हुआ और मैं फिर से मां बन गई उसके बाद मेरे पति की ड्यूटी चेंज हो गई और वो सुबह काम पर जाने लगे और मेरे ससुर जी की तबीयत भी कुछ खराब सी होने लगी थी इसलिए हमारा नाता टूट रहा था और फिर वैसे भी मेरे बच्चे भी तो बड़े हो गए थे इसलिए हम दोनों ने चुदाई करना छोड़ दिया था तो दोस्तों ये थी मेरी चुदाई की कहानी उम्मीद करती हूं  मेरे ससुर जी के साथ मेरी चुदाई आपको जरूर पसंद आई होगी अगर आपको पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ ईसे जरूर शेअर करे और आप comment कर के भी हमे बता सकता है आपको ये कहानी कैसी लगी।

अगर आपके पास भी ऐसी कोई कहानी है तो नीचे दिए गए email पर सेंड क्र सकता है।
[email protected]

अगर आप इसी तरह ससुर और बहू की desi sex kahani पड़ना चाहते है तो आप हमारे home में दी गई Facebook page को like या पसंद कर सकते है

हमारी ससुर और बहू की desi sex kahani पड़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *